Tag: ऋषिकेश से ग्वारीघाट तक

ऋषिकेश से ग्वारीघाट तक

पिछला अंक पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे। ५ २०१५ जैनुअरी बड़ा नीरस साल था। मेरे पास करने के लिए कुछ था नहीं। इस साल मैंने ज्यादातर वक़्त खेती में लगाया। एक मजदूर जिसको हमने पहले खेत के आसपास कुछ मरम्मत कार्यों…

ऋषिकेश से ग्वारीघाट तक

पिछला अंक पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे। ४ अगली सुबह, मैं दरियागंज स्थित लिटरेरी पब्लिशिंग हाउस देखने गया। कार्यालय बाहर से जीर्ण-शीर्ण था, लेकिन सभी दरियागंज में स्थित भवनों की तरह अंदर से नया था। मैंने दरवाजा खटखटाया लेकिन कोई प्रतिक्रिया…

ऋषिकेश से ग्वारीघाट तक

१ कहानी शुरू हुई थी २०१० मे अगर मुझे ठीक से याद है तो। शायद २०११ मे भी हो सकती है। अब मुझे याद नहीं। खैर, तारीखे जरूरी नहीं, हम बेवजह तारीखों मे उलझ के रह जाते है। जबकि उससे…