ऋषिकेश से ग्वारीघाट तक

पिछला अंक पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे। ६ जब भी हमें उसकी सबसे ज्यादा जरूरत होती थी, तब चेतराम हमेशा नशे में मिलता था। आपूर्ति किए गए सिंचाई जल को ढाला कहा जाता था। पूरा ब्लॉक नहरों से अच्छी तरह जुड़ा…